Contact Us

Please contact us for any suggestions/feedback.

Fill the form below
OR You can also WhatsApp your shayaris to +91-7829930171

11 comments

  1. Posted by ajay pandey, at Reply

    8882727401

  2. Posted by kanzariya prakash s, at Reply

    love

  3. Posted by rajesh gupta, at Reply

    frnds add me in your frnd list.

    plz

  4. Posted by indraraj, at Reply

    9772247174 fb frind

  5. Posted by गोपी खन्ना, at Reply

    आशिक़ुई सब्र तलब और तमन्ना बेताब,
    दिल का क्या रंग करूँ खून-ए-जिगर होने तक!

    ट्रांसलेशन:
    लोवे डिमॅंड्स एंड्रन्स,
    वाइल डिज़ाइर इस कन्स्यूमिंग,
    वॉट शुड बे मी स्टेट उंतिल्ल अब्सेशन डेववर्स पेशियेन्स.

  6. Posted by rekhakumari, at Reply

    Sayari lovely

  7. Posted by shaikh sharif, at Reply

    Bura game sha vahi banata he Jo achha bankar too chuka hota he

  8. Posted by कविता, at Reply

    ।।मृत्यु भोज ।।

    सात गाँव की चूल थी
    गाँव मिडरी इक्कीस।
    देशी घी के माल पुआ
    और नुकती बोरा तीस।
    तस्मई भी थी दूध की
    पड़े किनाने पीस ।
    अपने दद्दा की त्रयोदसी
    की थी पटेल रहीश ।
    जमीन पटेल थी तीस बीघा
    तेरहवी बिक गई बीस ।
    8 लाख की ली बुलेरो
    एक लाख दी फीस ।
    सवा लाख की चूड़ी ले लई
    जो थी ग्राम छत्तीस ।
    10 बीघा गई शान ये शौकत
    ठन ठन बचे रहीश ।
    झूठी शान न अब कोई करना
    झूठी शान में मिटे रहीश ।
    रचनाकार
    कवि दीपक गांधी (काव्य संग्रह) ग्वालियर मो 9755284417

  9. Posted by Michael, at Reply

    Bodeli

  10. Posted by amjad khan, at Reply

    सुरेश-रमेश को रास्ते में दो बम मिले।
    सुरेश (रमेश से)- चल पुलिस को देकर आते हैं।
    रमेश(सुरेश)- अगर कोई बम रास्ते में फट गया तो?
    सुरेश- झूठ बोल देंगे की एक ही मिला था..!!

  11. Posted by arvind, at Reply

    shri radhakrishn k pawan parw ki sabhi ko happy holly * ARVIND*

Post your comment